Wednesday, June 12, 2024

Latest Posts

रिपोर्टर राजीव कुमार

जान से मारने की नीयत से बुर्जुग महिला पर हथौडे से वार करने वाली महिला को थाना ट्राजिट कैम्प पुलिस ने किया गिरफ्तार
दिनांक 11/07/2023 को आरिन्दा दीपक भाटिया पुत्र स्व0 रामचन्द्र भाटिया निवासी EWS 351 आवास विकास थाना ट्राजिट कैम्प ने उपस्थित थाना आकर एक किता तहरीर बाबत दिनांक 11.07.2023 को अज्ञात महिला द्वारा घर मे घुसकर जान से मारने की नीयत से हथौडे से वार कर वादी की माता को गम्भीर रुप से घायल कर देने के सम्बन्ध मे थाना ट्राजिट कैम्प मे मु0 FIR N0 – 195/2023 U/S 452/307 IPC का अभियोग पंजीकृत कर विवेचना उ0नि0 नीमा बोहरा के सुपुर्द की गयी ।

उरोक्त घटना के शीघ्र अनावरण व अभियुक्ता की शीघ्र गिरफ्तारी के परिपेक्ष्य मे श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद ऊधम सिह नगर के पर्यवेक्षण व पुलिस अधीक्षक अपराध एंव यातायात, पुलिस अधीक्षक नगर , क्षेत्राधिकारी नगर महोदय के निर्देशन व प्रभारी निरीक्षक महोदय के नेतृत्व मे उ0नि0 नीमा बोहरा , कानि0 784 दिनेश चन्द , कानि0 120 राकेश खेतवाल , कानि0 179 महेन्द्र डंगवाल , कानि0 740 पंकज सजवाण की टीम गठित की गयी गठित टीम द्वारा दिनांक 11.07.2023 से लगातार लगभग 500 सीसीटीवी कैमरो की फूटेज को देखा गया तथा मुखबिर भी मामूर किये गये काफी कडी मेहनत के फलस्वरुप आज प्रातः दिनांक 19.07.2023 को उ0नि0 नीमा बोहरा मय गठित टीम उपरोक्त के द्वारा घटना का अनावरण करते हुये अभियुक्ता रवलीन कौर पत्नी श्री रमनदीप सिंह निवासी मकान नं0-ई0डब्लू0एस0 461 आवास विकास जगतपुरा रोड नियर शिव मंदिर थाना ट्रांजिट कैंप उधमसिंह नगर उम्र 32 वर्ष को उसके घर मकान नं0-ई0डब्लू0एस0 461 आवास विकास जगतपुरा रोड नियर शिव मंदिर से गिरफ्तार किया गया ।
पुलिस टीम
1. निरीक्षक सुन्दरम शर्मा
2. उ0नि0 नीमा बोहरा
3.कानि0 1020 राकेश खेतवाल
4. कानि0 784 दिनेश चन्द
5. कानि0 179 महेन्द्र डगंवाल
6. कानि0 740 पंकज सजवाण
बरामदा माल
1.एक हथोडा बिना हत्थे का
2. एक सफेद रंग की रस्सी
3. घटना के समय पहने हुये कपडे तथा काले रंग बैग
गिफ्तार अभियुक्ता
1.अभियुक्ता रवलीन कौर पत्नी श्री रमनदीप सिंह निवासी मकान नं0-ई0डब्लू0एस0 461 आवास विकास जगतपुरा रोड नियर शिव मंदिर थाना ट्रांजिट कैंप उधमसिंह नगर उम्र 32 वर्ष

अभियुक्ता का घटना कारित करने का उद्देश्य- रवलीन कौर पत्नी श्री रमनदीप सिंह निवासी मकान नं0-ई0डब्लू0एस0 461 आवास विकास जगतपुरा रोड नियर शिव मंदिर थाना ट्रांजिट कैंप उधमसिंह नगर उम्र 32 वर्ष एक विवाहिता महिला है जिसका विवाह 13 dec 2015 में रमनदीप के साथ हुआ था दोनों का एक बेटा है जिसकी उम्र 07 वर्ष है उक्त महिला स्टोन रिज स्कूल बगवाडा में पढ़ाती है |महिला का पति एवम वादी दीपक भाटिया आपस में बचपन के दोस्त थे और इन दोनों की दोस्ती बहुत गहरी थी दीपक भाटिया की मां अभियुक्ता के पति को अपना बेटा की तरह मानती थी अभियुक्ता के पति एवम दीपक भाटिया एक ही कंपनी अशोक लीलैंड पंतनगर में एक ही सेक्शन काम करते है दीपक भाटिया HR हेड है तथा मेरे पति रमनदीप सिह excutive superviser है गिरफ्तार अभियुक्ता का कहना है की दीपक भाटिया जानबूझ कर मेरे पति की पूरी सर्दियों भर 05 महीने नाईट शिफ्ट लगाई मेने अपने पति से बोला आप दीपक भैया से बोलकर अपनी डे शिफ्ट लगा लो लेकिन उसने मेरे पति से बोला की मेरे उपर भी बॉस है मै नही लगा सकता जबकि दीपक लगा सकता था दीपक को 80 हजार सैलरी मिलती है लेकिन मेरे पति को 22 हजार रूपये ही मिलते है दीपक भाटिया पूरी सर्दी भर 5 बजे घर आ जाता था अपने परिवार के साथ मौज मस्ती करता था मेरा पति मेहनत करता फिर भी ना उसे ढंग की सैलरी मिलती ना ही वो हमे टाइम दे पाता मैं बहुत परेशान हो गयी थी दीपक भाटिया की पत्नी और बहन भी हमे बड़ा attitude दिखाते थे मुझसे बात नही करते जबकि मेरा पति उनके घर में आता जाता रहता था और उनके सारे काम करवाता था तथा उसकी पत्नी और बहन को नौकरी हेतु इंटरव्यू दिलाने मेरा पति ही ले जाता मुझसे ये लोग सीधे मुझ बात नही करते दीपक की पत्नी सिमरन AMINITY स्कूल में ऑफिस में जॉब करती है में इस बार AMINITY स्कूल में इंटरव्यू के लिए गयी थी परन्तु सिमरन मेरे साथ बात नही की उसने मुझे इगनोरे किया मुझे बहुत गुस्सा आया मेने अपने पति से बोला की आप उसके घर मत जाया करो वो लोग मुझसे बात नही करते और मुझे इगनोर करते है मेरे पति ने बोला तू उनसे मतलब मत रखा कर मेरी तो बचपन की दोस्ती है मै तो बोलना नही छोड़ सकता तब मुझे बहुत गुस्सा आया फिर 01 जुलाई को मेरे पति रात में जॉब से घर आये उनका मूड बहुत खराब था वो बहुत परेसान थे मेने उनसे परेशानी का कारण पूछा तो उन्होंने बताया की मेरा आज इन्क्रीमेंट लगना था लेकिन नही लगा 3000/ तक का घटा हो गया है मेने उनसे कहा दीपक भैया तो आपके HR HEAD है आपने उनसे बात नही की तो मेरे पति ने बोला क्या बात करता दीपक तो सब मालुम ही था तब मुझे अन्दर ही अन्दर दीपक और उसके परिवार के लोगो के लिए नफरत होने लगी मेने मन में ठान ली की दीपक व परिवार के कारण हमे इतना झेलना पड़ रहा है हम इनता ज्यादा परेशान है जबकि ये और इसका परिवार मौज काट रहा है मैं इसके परिवार की खुशियों को मिटा दूंगी दीपक की माँ ही उसके परिवार की मुखिया थी मुझे मालुम था दीपक ,दीपक की पत्नी ,बहन 8.00 बजे तक घर से जॉब में चले जाते है केवल उसकी माँ ही घर पर रहती है मेने उसे मारने का प्लान बना लिया | मेने दिनाक 07-07-23 को स्कूल की छुट्टी ली और घर में किसी को नही बताया की मेरी छुट्टी है मैं रोज की तरह स्कूल जाने के लिए स्कूल की ड्रेस कोड गुलाबी कुर्ती ,काली पेंट ,काला जुता व काला बैग जिसमें मेने एक दीपक भाटिया की माँ को मारने के लिए एक हथोडा लोहे का बिना हथ्थे वाला ,एक सफ़ेद रस्सा रखा था उसे लेकर घर से निकलकर 7.40 बजे सुबह टुकटुक में बैठकर दशमेश द्वार होते नैनीताल road से होते हुए रोडवेज के सामने गयी वहा से एक दुसरे टुकटुक में बैठकर श्याम टाकिज से होते हुए आवास विकास road में केयर ब्यूटी पार्लर के पास रुकी फिर वहा से पैदल दीपक भाटिया के घर वाली गली में गयी उस दिन उनका गेट बंद था तो मै वापस टुकटुक में बैठकर रोडवेज के सामने महाराजा पैलेस चली गयी वहा पर ही बैठी रही फिर स्कूल के टाइम 2.10 बजे घर वापस आ गयी मैं दिनांक 11-07-23 को दुबारा महरून रंग की टी – शर्ट व काली पेंट ,काला जुता ,मुह में कपडा बांधकर व काला बैग जिसमें मेने एक दीपक भाटिया की मां को मारने के लिए एक हथोडा लोहे का बिना हथ्थे वाला ,एक सफ़ेद रस्सा रखा था को लेकर घर से निकलकर 7.40 बजे सुबह टुकटुक में बैठकर दशमेश द्वार होते नैनीताल road से होते हुए रोडवेज के सामने गयी वहा से एक दुसरे टुकटुक में बैठकर श्याम टाकिज से होते हुए आवास विकास road में केयर ब्यूटी पार्लर के पास रुकी फिर वहा से पैदल दीपक भाटिया के घर वाली गली में गयी मुझे मालुम था की इसके घर में अब सब लोग अपने जॉब में जा चुके होंगे घर पर इसकी मां अकेले होंगी दीपक भाटिया के घर का गेट में कुंडा नही लगा था मैं धीरे से गेट का दरवाजा खोलकर अन्दर गयी नीचे कमरे में ताले लगे थे पहली मंजील में गयी तो दीपक भाटिया की मम्मी अन्दर वाले कमरे में थी में उनके बाहर वाले वाले कमरे में चले गयी व जानबूझ कर अलमारी खटखटाने लगी दीपक भाटिया की मम्मी बाहर आई मुझसे पूछने लगी की यहा क्यों आई हो कोन हो तुम , तो मेने उनको जान से मारने की नीयत से अपने बैग में रखा हथोडा और रस्सी निकाली मैंने दीपक भाटिया की मम्मी का गला रस्सी से दबाया फिर हथोड़े से उनके सिर में कई वार किये उनके माथे में मारा वो चिल्लाने लगी तो अन्दर से उनका पोता अविराज बाहर आया उसने हल्ला किया तो में वहा से डर कर बाहर गली की ओर भाग गयी फिर वापस उसी रास्ते केयर ब्यूटी पार्लर के पास से टुकटुक में बैठकर चौकी के सामने से होते हुये कचंतारा होटल ,श्याम टाकिज,गंगापुर road,दक्ष चोराहा होते हुए अपने स्कूल 8.35 am तक पहुच गयी मेने टुकटुक में ही अपने बैग में रखे सफ़ेद रंग के कुरते को निकालकर चौकी आवास विकास के पास पहन लिया मैंने अपनी टी- शर्ट को अपने स्कूल के पास नाले में फेक दिया तथा घटना के बाद पहनी कुर्ती एवम जिस हथोड़े व रस्सी से मारपीट की उन्हें मेने अपने बेडरूम में बैड के अन्दर उसी काले रंग के बैग में रख दी थी मुझसे गलती हो गयी है माफ़ कर दो घटना के बाद पहनी कुर्ती एवम जिस हथोड़े व रस्सी को मेंने पुलिस को दे दिया है |

About The Author

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.