Sunday, May 26, 2024

Latest Posts

रिपोर्टर राजीव कुमार उधम सिंह नगर

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा श्री मद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का भव्य आयोजन किया जा रहा है।

जिसके अन्तर्गत भगवान की दिव्य लीलाओं व उनके भीतर छिपे हुए गूढ़ आध्यात्मिक रहस्यों को कथा प्रसंग व सुमधुर भजन संकीर्तन के माध्यम से उजागर किया जा रहा है। पर्यावरण असंतुलन की समस्या को उठाते हुए साध्वी सुश्री कांलिदी भारती जी ने कहा कि समाज मानव मन की अभिव्यक्ति है। जब-जब संतों के आदर्शों का परित्याग करते हुए मानव भोग वासना की ओर प्रवृत्त हुआ तब तब समाज विषाक्त होता। जरुरत मन को प्रदूषण से मुक्त करने की है। जब मन का प्रदूषण समाप्त होगा तब बाहरी पर्यावरण स्वतः ही स्वच्छ हो जाएगा। इसके लिए जरुरत है ब्रह्मज्ञान की जो मानसिक शु (ता का सशक्त साध्न है। हमें आवश्यकताओं और लालसाओं में भेद करना होगा। जितनी लालसायें बढ़ेंगी उतना ही प्रकृति का दोहन होगा। क्या हम आने वाली पीढ़ियों को ऐसी दुनियां देना चाहेंगे? जिसकी हवाओं में जहर घुला हो, जहाँ धूल, हूंओं और बीमारियां आम बात हों। जहाँ सूख और बाढ़ विनाश की सृष्टि करते हों। संभवतः कोई भी माता-पिता अपने बच्चों को ऐसी विभीषक दुनियां नहीं देना चाहेगा। यदि हमें एक स्वच्छ व सुंदर समाज का निर्माण करना है तो भारतीय सांस्कृति जीवन दृष्टि को पुनर्जीवित करना होगा और उसे सक्रिय रूप से लागू करना होगा। इसी भारत भूमि के संतों ने हमें चेताया कि भूमि के सुखों को भोगो तो सही परन्तु त्यागपूर्वक, यदि त्यागपूर्वक नहीं भोगेंगे तो भोगने की क्षमता और सामर्थ्य नहीं रहेगा। संतों के बताए मार्ग पर चलकर हम पृथ्वी को रसातल के मार्ग पर भेजने से बचा सकते हैं।

साध्वी जी ने इस गंभीर मुद्दे पर विचार देते हुए कहा कि आज का आधुनिक मानव जिस गति से पर्यावरण का शोषण कर रहा है उसके परिणाम स्वरूप आने वाले कुछ समय में पृथ्वी पर न तो पीने के लिए स्वच्छ जल बचेगा और न ही सांस लेने के लिए स्वच्छ वायु। पृथ्वी के हाहाकार से, प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली क्षति का स्तर भी बढ़ जाएगा। इसलिए यदि समय रहते इस दिशा में पर्याप्त कदम नहीं उठाए गए तो मानव अपने भविष्य भविष्य के लिए स्वयं जिम्मेवार होगा। वर्तमान समय में यदि कोई आपदा मानव जीवन को खत्म करने का प्रयत्न कर रही है तो वह है पर्यावरण में बढ़ रहा प्रदूषण। इसमें तेजी से हो रही बढ़ोतरी के कारण पृथ्वी का तापमान लगातार बढ़ता जा रहा है व समुद्र के पानी का स्तर ऊपर उठता जा रहा है। यदि यह ऐसे ही चलता रहा तो एक दिन पृथ्वी के अस्तित्व को खतरा हो जाएगा। हमारे पर्यावरण में पूरी तरह से शहर घुल चुका है। इसका जिम्मेवार स्वयं मानव ही है। जिसकी विकासवादी सोच आज मानव जाति के लिए घातक सि ( हो रही है। इसी सोच के कारण ही मानव प्रकृति के प्रति अपने कर्त्तव्यों को भूलता जा रहा है। वह संवैधनिक व सामाजिक नियमों की धज्जियाँ उड़ा कर वातावरण में शहर घोलता जा रहा है। 19वीं सदी तक प्रदूषण नाम की समस्या से लोग अनभिज्ञ थे परन्तु जैसे ही उद्योगिक क्रांति आई संसार में प्रतिदिन नए-नए कारखाने खुलने लगे। इनके द्वारा पैदा किए गए शहरीले हूंऐ व कच्चे माल की पूर्ति के लिए प्राकृतिक साधनों के शोषण ने इस समस्या को जन्म दे दिया है। इस क्रांति के साथ ही मानव की जिन्दगी का पूरी तरह से मशीनीकरण हो चुका है। मानव की जरुरतों में हुई बढ़ोतरी के कारण वह प्राकृतिक साध्नों का दुरुपयोग करने लग गया है। इसकी पूर्ति के लिए मनुष्य ने पौधे की कटाई कर कंक्रीट के जंगलों का निर्माण करना शुरु कर दिया है। इसके अलावा नदियों को कारखानों की गंदगी पफेंकने के लिए कूड़ादान बना लिया है। ग्लोबल वार्मिंग बढ़ने के कारण सूर्य की भयानक किरणों से हमारा बचाव करने वाली ओशोन परत में भी छिद्र हो चुका है। जिस कारण आज मानव भयानक व नामुराद बीमारियों से ग्रसित है। यदि इस प्रदूषण को न रोका गया तो वर्ष 2054 तक हमारी सुरक्षा कवच ओशोन परत पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। आज की कथा में पर्यावरण जागरुकता संबंध एक विशेष स्टाल लगाया गया व आए हुए भक्त श्र (लुिगणों को पौधे वितरित किए गए। उल्लेखनीय है कि दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा प्रस्तुत इस कथा में प्रतिदिन सामाजिक बुराईयों व समस्याओं के प्रति विश्लेषणात्मिक विचार प्रस्तुत किए जा रहे हैं। उपस्थित प्रभु भक्त इसी रोचकता के चलते बड़ी संख्या में कथा श्रवण करने हेतु पधर रहे हैं।

श्री मद्भागवत की कथा में भगवान श्री कृष्ण की नटखट व भाव विभोर करने वाली लीलाओं को कथा प्रसंग व मधुर संकीर्तन के माध्यम से श्रवण कर भक्त श्र (लुिगण मंत्रा मुग्ध हो झूमने को मजबूर हो उठे। कथा के उचित प्रबंध व सुव्यवस्था के कारण पूरा पंडाल मानो वृंदावन की छटा बिखेर रहा था।

पूजन में सम्मिलित:- रामचंद्र सिंगल जी,मनीष अग्रवाल,विजय गर्ग,विष्णु बंसल

अतिथि-स्नेह पाल जी(केंद्रीय सह मंत्री विश्व हिन्दू परिषद),,वीरेंद्र जिंदल जी , राम उजागर सिंह,पूर्व दर्जा राज्य मंत्री सुरेश परिहार, समाजसेवी जे.बी. सिंह, नगर निगम नगर आयुक्त नरेश दुर्गापाल, एडवोकेट दिवाकर पांडे, राकेश सिंह, विवेक सक्सेना, अभिषेक सक्सेना, सुशील गाबा, एडवोकेट नवीन ठुकराल, संजय ठुकराल, सुल्तान सिंह,देवी लाल चौधरी,निशांत राणा

About The Author

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.